कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 11 मई 2010

ग़ज़ल

बदलते वक़्त की हलचल कहेगा
मेरी कोशिश को फिर से छल कहेगा

घुटन,आंसू,शरारों,सिसकियों को
वो कब तक यूँ सुनेहरा कल कहेगा

कवि है औ कवि से कैसा डरना
करेगा कुछ नहीं केवल कहेगा 

सवालों का निशाना है वो सबका 
न जाने कौन उसको हल कहेगा

हमारी चुप्पियों की दास्तानें
कहेगा आने वाला कल कहेगा

1 टिप्पणी:

  1. "घुटन,आंसू,शरारों,सिसकियों को
    वो कब तक यूँ सुनेहरा कल कहेगा"
    bahut sunder baat keh rahe hain aap ! gambhir !

    उत्तर देंहटाएं