कुल पेज दृश्य

शुक्रवार, 18 फ़रवरी 2011

कवि की प्रेमिका

कवि अपनी प्रेमिका के सपने देख 
अक्सर उदास हो जाया करता था 
उसने सोंचा कि अब उसे शादी का प्रस्ताव 
रख हीं देना चाहिए
प्रेमिका पहले तो इधर उधर की बातें करती रही
फिर उससे
कविता सुनाने की जिद करने लगी
कवि बोला-लेकिन मैं कुछ और कह रहा हूँ
एंड आई एम सीरिअस
प्रेमिका साफ़गो थी
बोली-देखो भई,कोई मुझ पर कविता लिखे
तो मुझे जरूर अच्छा लगता है
बट,कवि से शादी करना ....
तुम खुद सोंचो
कवि हर्ट हुआ
बोला-मत भूलो कि  इस कविता की बदौलत हीं
तुम मशहूर हुई हो
प्रेमिका ने टालते हुए कहा-
अच्छा छोड़ो, इस बारे में बाद में बात करेंगे
लुक एट दैट ऑसम पेअर ऑफ़ पैरट्स
कवि और रुआंसा हो गया-
बट हाउ कुड यू बी सो मटिरिअलिस्टिक
प्रेमिका थोड़ी देर के लिए
असमंजस पे पड़  गई
संभलते हुए बोली
यार मै मटिरिअलिस्टिक नहीं होना चाहती
बट आई वांट टू बी रिअलिस्टिक
तुम इस कदर 
अपने दुःख मांजते और भांजते ही रहोगे 
आई नो यू कांट हेल्प 
बट आफ्टर मैरेज यू विल बोर मी
वैसे तुम्हारे लिए रेस्पेक्ट 
हमेशा रहेगी मेरे दिल मे
एंड एनी वे ,यू कैन ऑलवेज हैव  माय सोल.    


  

1 टिप्पणी:

  1. इसे कहते हैं प्रेक्टिकल अप्रोच...हमें तो लड़की की ये अदा पसंद आई...हम देते हैं आपको बधाई...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं